Loan Plan All Govt Loan Scheme
Loan Scheme, सरकारी लोन योजनाए

Menu

राजस्थान में अब राशन में गेहूं की जगह मिलेगा बाजरा - खाद्य सुरक्षा विभाग ने किया नया नियम लागू, Food Security Scheme, Rajasthan

Category: schemes » by: Monika » Update: 2024-06-27

हल्लो दोस्तों, अगर आप राजस्थान से है तो आपके लिए राशन कार्ड से जुड़ा बड़ा अपडेट आया है जिसमे अगर आपको राशन कार्ड से गेहूं मिल रहा है तो अब आपको गेंहू नही मिलेगा, अब आपको सरकार द्वारा गेहूँ की जगह पर बाजरा दिया जाएगा. राजस्थान के 4.46 करोड़ लोगों को खाद्य सुरक्षा योजना के मुफ्त राशन स्कीम के तहत हर महीने फ्री राशन मिलता है. लेकिन अब इस योजना में एक बड़ा बदलाव होने जा रहा है. सरकार मुफ्त राशन स्कीम के तहत लोगों को गेहूं के बदले बाजरा देगी और इसके लिए सरकार जल्द योजना बना सकती है.

rajasthan food security scheme new rulesसरकार इसी खरीफ की फसल से बाजरे की खरीद शुरू कर सकती है राजस्थान में तकरीबन 4.46 करोड़ मुफ्त राशन योजना के तहत लाभार्थियों को अब 5 किलो गेहूं के बदले बाजरा सरकार की तरफ से मुफ्त दिया जाएगा. मुख्यमंत्री भजनलाल शर्मा ने विभाग द्वारा भेजे गए इस प्रस्ताव को लेकर चर्चा की है. समर्थन मूल्य पर खरीदे गए बाजरे को नवंबर दिसंबर और जनवरी में खाद्य सुरक्षा योजना से जुड़े लाभार्थियों को मुफ्त में गेहूं के बदले बाजरा दिया जाएगा. इसके लिए सरकार जल्द ही बजट सत्र में बाजरे की खरीद की घोषणा कर सकती है.

राजस्थान में गेहूं के बदले बाजरा मिलेगा

अगर आपका राशन कार्ड बना हुआ है और आप राजस्थान खाद्य सुरक्षा योजना के अंतर्गत हर महीने पांच किलो गेहूँ प्राप्त करते है तो आपको राजस्थान सरकार अब राशन में गेहूं की जगह बाजरा देने की योजना बना रही है और सीएम भजनलाल द्वारा को विभाग द्वारा इसका प्रस्ताव भेजा गया है मुख्यमंत्री भजनलाल शर्मा ने विभाग द्वारा भेजे गए इस प्रस्ताव को लेकर अभी काफी चर्चा हो रही है. समर्थन मूल्य पर खरीदे गए बाजरे को नवंबर दिसंबर और जनवरी में खाद्य सुरक्षा योजना से जुड़े लाभार्थियों को मुफ्त में गेहूं के बदले बाजरा दिया जाएगा. 

इसके लिए सरकार जल्द ही बजट सत्र में बाजरे की खरीद की घोषणा कर सकती है. हाल ही में राजस्थान की भजनलाल सरकार ने किसानों को आर्थिक तौर पर मजबूती देने के लिए किसान सम्मान निधि योजना के तहत 6000 रुपए से बढ़कर ₹8000 कर दिए हैं. वही राजस्थान की सरकार के द्वारा किसानों को मुफ्त बीजों के कीट प्रदान कर रही है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के द्वारा मोटे अनाज की खेती को बढ़ावा देने और किसने की आय में वृद्धि करने के उद्देश्य से सरकार ने योजना को धरातल पर उतारा है इस योजना के तहत ज्वार, बाजरा, रागी और जो जैसे मोटे अनाज की बुवाई पर जोर दिया है.

यह भी पढ़ें.-

फ्री सोलर चूल्हा योजना के लिए आवेदन करें

श्रमिक कार्ड लिस्ट 2024 राजस्थान

राजस्थान में गेहूँ की जगह कब से मिलेगा बाजरा

अगर आप राजस्थान के किसान है तो आपके के लिए एक बड़ी खुशखबरी निकल करके सामने अ रही है जिसमे प्रदेश के किसान पिछले कई सालों से मांग करते आ रहे हैं कि सरकार बाजरे की खरीद समर्थन मूल्य पर करे. इसके लिए कई बड़े आंदोलन भी किए जा चुके हैं. अब भजनलाल सरकार जल्द ही बाजरे की खरीद समर्थन मूल्य पर कर सकती है. राज्य सरकार समर्थन मूल्य पर बाजरा की खरीद करके खाद्य सुरक्षा योजना के तहत दिए जाने वाले गेहूं के स्थान पर 5 किलो बाजरा देने का प्लान बना रही है. 

अगर सरकार का यह प्लान मूर्त रूप लेता है तो सरकार इसी खरीफ की फसल से बाजरे की खरीद शुरू कर सकती है. यदि ऐसा होता है राजस्थान के किसानों की आमदनी बढ़ाने और मिलेट्स के प्रोत्साहन को लेकर भजनलाल सरकार का यह प्लान गेम चेंजर साबित होगा. क्यों कि बाजरा पहले की तरह यदि रोजाना के खानपान में और अधिक शामिल होता है तो स्वास्थ्य की दृष्टि से बेहतर होगा वहीं एमएसपी पर खरीद से किसानों की आमदनी भी बढ़नी तय है.

बाजरा उत्पादन में राजस्थान का पहला स्थान

बाजरा के उत्पादन में राजस्थान देश का नंबर वन राज्य है भारत में कुल उत्पादन होने वाले बाजरे का 85% उत्पादन सात राज्यों में होता है. इनमें राजस्थान, कर्नाटक, महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश, हरियाणा, गुजरात और मध्य प्रदेश शामिल है. इन सात राज्यों में भी सर्वाधिक बाजरा उत्पादन करने वाला राज्य राजस्थान है. राजस्थान की मिट्टी और यहां की जलवायु बाजरे की खेती के लिए सबसे बेहतर है. यही वजह है कि राजस्थान बाजरे का सर्वाधिक उत्पादन होता है. एग्रीकल्चर स्टेट बोर्ड के आंकड़ों के मुताबिक देश में कुल उत्पादित होने वाले बाजरे का 28.6 फीसदी उत्पादन राजस्थान में होता है. राजस्थान में बाजरे का उत्पादन करीब 50 लाख मीट्रिक टन होता है.

अभी सिर्फ हरियाणा सरकार खरीद रही है किसानों से बाजरा

बाजरे के उत्पादन में राजस्थान भले ही पहले स्थान पर हो, लेकिन यहां की सरकारों ने अब तक समर्थन मूल्य पर बाजरे की खरीद शुरू नहीं की. और समर्थन मूल्य पर बाजरे की खरीद सभी सिर्फ हरियाणा राज्य में ही हो रही है. बाजरे का समर्थन मूल्य 2625 रुपए प्रति क्विंटल है. राजस्थान में समर्थन मूल्य पर खरीद नहीं होने पर किसानों को सस्ते दामों पर बाजरा बेचना पड़ता है. हरियाणा में भले ही समर्थन मूल्य पर बाजरे की खरीद होती हो लेकिन राजस्थान के बाजरे की खरीद पर कई बार रोक लगाई जा चुकी है.

राजस्थान में गेहूं के बदले बाजरा कब से मिलेगा?

schemes

समर्थन मूल्य पर खरीदे गए बाजरे को नवंबर दिसंबर और जनवरी में खाद्य सुरक्षा योजना से जुड़े लाभार्थियों को मुफ्त में गेहूं के बदले बाजरा दिया जाएगा. इसके लिए सरकार जल्द ही बजट सत्र में बाजरे की खरीद की घोषणा कर सकती है.

बाजरा का सबसे अधिक पैदावार कौनसे राज्य में होता है?

schemes

बाजरा उत्पादन के क्षेत्र में राजस्थान देश का नंबर वन राज्य है. देश में कुल उत्पादन होने वाले बाजरे का 85 प्रतिशत उत्पादन सात राज्यों में होता है. इनमें राजस्थान, कर्नाटक, महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश, हरियाणा, गुजरात और मध्य प्रदेश शामिल है. इन सात राज्यों में भी सर्वाधिक बाजरा उत्पादन करने वाला राज्य राजस्थान है.

Comments Shared by People

RECENT